Atal Bihari Vajpai/अटल बिहारी वाजपेयी
लोगों की राय

लेखक:

अटल बिहारी वाजपेयी
जन्म : 25 दिसम्बर 1924।

जन्म-स्थान : ग्वालियर, मध्य प्रदेश।

आपका जन्म 25 दिसम्बर, 1924 को ग्वालियर, मध्य प्रदेश में हुआ। आपके पिता का नाम श्री कृष्ण बिहारी वाजपेयी था। एक भरे-पूरे परिवार के सदस्य अटल बिहारी वाजपेयी ने विक्टोरिया (अब लक्ष्मीबाईः कॉलेज, ग्वालियर और डी.ए.वी. कॉलेज, कानपुर में अपनी पढ़ाई पूरी की। आपने राजनीतिशास्त्र से एम.ए. तक की पढ़ाई की है। आप 1942 के स्वतंत्रता आंदोलन में गिरफ्तार हुए थे और कुछ दिन जेल में रहे थे। आपने एक पत्रकार के रूप में अपना जीवन शुरू किया। आपने 1947-50 के दौरान ‘राष्ट्र धर्म’, 1948-50 के दौरान ‘पाञ्चजन्य’ (साप्ताहिक), 1949-50 के दौरान ‘स्वदेश’ (दैनिक) तथा 1950-52 के दौरान ‘वीर अर्जुन’ (दैनिक तथा साप्ताहिक) के संपादक के पदों को सुशोभित किया।

जनता पार्टी की सरकार में 1977-79 की अवधि के दौरान अपने विदेश मंत्री के पद को सुशोभित किया। ग्यारहवीं लोकसभा के गठन के तुरंत बाद आप 16 मई, 1996 से 28 मई, 1996 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे। जून 1996 से फरवरी 1998 तक ग्यारहवीं लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे। मार्च 1998 में बारहवीं लोकसभा के गठन के बाद आप पुनः भारत के प्रधानमंत्री रहे।

श्री अटल बिहारी वीजपयी ने स्वतंत्रता आंदोलन में भी बढ़-चढ़कर भाग लिया। 1942 में आपको ब्रिटिश हुक्मरानो ने जेल भेजा। आपातकाल के पूरे दौर में 1975 से 77 तक आप जेल में रहे। राष्ट्र के प्रति आपकी समर्पित सेवाओं के लिए राष्ट्रपति ने 1992 में ‘पद्मविभूषण’ से विभूषित किया। 1993 में कानपुर विश्वविद्यालय ने फिलॉसफी में डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की। 1994 में ‘लोकमान्य तिलक’ पुरस्कार दिया गया। 1994 में ‘सर्वश्रेष्ठ संसद’ चुना गया और ‘गोविंद बल्लभ पंत’ पुरस्कार से सम्मानिक किया गया। 26 नवंबर, 1998 को सुलभ इंटरनेशनस फाउंडेशन ने वर्ष ’97 के सबसे ईमानदार व्यक्ति के रूप में चुना। उपराष्ट्रपति (श्री कृष्णकांत ने इस पुरस्कार से सम्मानित किया।

कृतियाँ : कैदी कविराज की कुंडलिया, न्यू डाइमेंशंस ऑफ एशियन फॉरेन पॉलिसी, मृत्यु या हत्या, जनसंघ और मुसलमान, मेरी इक्यावन कविताएं, मेरी संसदीय यात्रा (चार खण्डों में), संकल्प-काल, चुनी हुई कविताएँ, न दैन्यं न पलायनम्, नयी चुनौती : नया अवसर, विचार बिन्दु, शक्ति से शान्ति, कुछ लेख कुछ भाषण, बिन्दु-बिन्दु विचार।

यह पुस्तक/पुस्तकें उपलब्ध नहीं हैं

 

  View All >>   0 पुस्तकें हैं|