List of Religious, Spiritual and Philosophical books in Hindi at Pustak.org - पुस्तक.आर्ग में धर्म, अध्यात्म और दर्शन की हिन्दी पुस्तकों का संकलन
लोगों की राय

धर्म एवं दर्शन

सोमवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ला

सोमवार के व्रत में शिवजी और पार्वती जी का पूजन करना चाहिये।

  आगे...

शनिवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ला

शनि की दशा को दूर करने के लिए यह व्रत किया जाता है। शनिस्तोत्र का पाठ भी विशेष लाभदायक सिद्ध होता है।

  आगे...

कामना और वासना की मर्यादा

श्रीराम शर्मा आचार्य

कामना एवं वासना को साधारणतया बुरे अर्थों में लिया जाता है और इन्हें त्याज्य माना जाता है। किंतु यह ध्यान रखने योग्य बात है कि इनका विकृत रूप ही त्याज्य है।

  आगे...

विजय, विवेक और विभूति

रामकिंकर जी महाराज

विजय, विवेक और विभूति का तात्विक विवेचन

  आगे...

सुग्रीव और विभीषण

रामकिंकर जी महाराज

सुग्रीव और विभीषण के चरित्रों का तात्विक विवेचन

  आगे...

प्रेममूर्ति भरत

रामकिंकर जी महाराज

भरत जी के प्रेम का तात्विक विवेचन

  आगे...

प्रसाद

रामकिंकर जी महाराज

प्रसाद का तात्विक विवेचन

  आगे...

परशुराम संवाद

रामकिंकर जी महाराज

रामचरितमानस के लक्ष्मण-परशुराम संवाद का वर्णन

  आगे...

मानस और भागवत में पक्षी

रामकिंकर जी महाराज

रामचरितमानस और भागवत में पक्षियों के प्रसंग

  आगे...

लोभ, दान व दया

रामकिंकर जी महाराज

मानसिक गुण - कृपा पर महाराज जी के प्रवचन

  आगे...

क्रोध

रामकिंकर जी महाराज

मानसिक विकार - क्रोध पर महाराज जी के प्रवचन

  आगे...

कृपा

रामकिंकर जी महाराज

मानसिक गुण - कृपा पर महाराज जी के प्रवचन

  आगे...

काम

रामकिंकर जी महाराज

मानसिक विकार - काम पर महाराज जी के प्रवचन

  आगे...

कहै कबीर कुछ उद्यम कीजै

स्वामी कृष्णानन्दजी महाराज

आज के मानव के लिए यह पुस्तक निज धर्म एवं कर्म को पहचानने के लिए एक आदर्श है   आगे...

शिव नेत्र

स्वामी कृष्णानन्दजी महाराज

शिव नेत्र पुस्तक में स्वामी कृष्णानन्द जी अष्टांग योग को ही आध्यात्मिक जगत् में प्रवेश का द्वार बता रहे हैं   आगे...

मानस में नारी

राजेन्द्र अरुण

रामचरितमानस के नारी पात्रों यथा सती, पार्वती, कौसल्या, सुमित्रा, कैकेयी, मन्थरा, अनसूया, तारा और मन्दोदरी के विभिन्न रूपों तथा विचारों का विशद् विवेचन   आगे...

मैं दलाई लामा बोल रहा हूँ

दलाई लामा

परम पावन दलाई लामा के 1982 से लेकर 2008 तक 25 वर्षों की अवधि में लिए गये विभिन्न साक्षात्कारों और वार्ताओं का राजीव मेहरोत्रा द्वारा संकलन और सम्पादन   आगे...

श्रीहनुमानचालीसा

गोस्वामी तुलसीदास

हनुमान स्तुति   आगे...

श्रीगणेशचालीसा

राम सुन्दर दास

गणेश स्तुति   आगे...

श्रीदुर्गाचालीसा

देवीदास

माँ भवानी की स्तुति   आगे...

श्रीविष्णुसहस्रनामस्तोत्र

महर्षि वेदव्यास

महाभारत के अन्त में भीष्म द्वारा युधिष्ठिर को दिये गये परमात्म ज्ञान का सारांश भगवान विष्णु के सहस्त्र नामों में।   आगे...

श्रीकनकधारा स्तोत्र

आदि शंकराचार्य

लक्ष्मी आराधना के स्तोत्र   आगे...

श्रीबजरंग बाण

गोस्वामी तुलसीदास

शरतचन्द्र का आत्मकथात्मक उपन्यास   आगे...

मंगलवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ल

मंगलवार की व्रत कथा   आगे...

क्या धर्म क्या अधर्म

श्रीराम शर्मा आचार्य

धर्म और अधर्म का प्रश्न बड़ा पेचीदा है। जिस बात को एक समुदाय धर्म मानता है, दूसरा समुदाय उसे अधर्म घोषित करता है।

  आगे...

कबीरदास की साखियां

वियोगी हरि

जीवन के कठिन-से-कठिन रहस्यों को उन्होंने बहुत ही सरल-सुबोध शब्दों में खोलकर रख दिया। उनकी साखियों को आज भी पढ़ते हैं तो ऐसा लगता है, मानो कबीर हमारे बीच मौजूद हैं।

  आगे...

हनुमान बाहुक

गोस्वामी तुलसीदास

सभी कष्टों की पीड़ा से निवारण का मूल मंत्र

  आगे...

गायत्री और यज्ञोपवीत

श्रीराम शर्मा आचार्य

यज्ञोपवीत का भारतीय धर्म में सर्वोपरि स्थान है।

  आगे...

दिव्य संदेश

हनुमानप्रसाद पोद्दार

इस समय मनुष्य-जाति की बुरी दशा हो रही है। पार्थिव प्रलोभनों की अधिकता से अभाव और अशान्ति की आग धधक उठी है।

  आगे...

बृहस्पतिवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ल

बृहस्पतिवार के हेतु रखे गये व्रतों की कथा

  आगे...

बुधवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ल

बुधवार के व्रत की कथा

  आगे...

श्रीकृष्ण चालीसा

गोपाल शुक्ल

श्रीकृष्ण चालीसा

  आगे...

श्रीमद्भगवद गीता

लक्ष्मीकान्त पाण्डेय

गीता काव्य रूप में।

  आगे...

श्री दुर्गा सप्तशती

लक्ष्मीकान्त पाण्डेय

श्री दुर्गा सप्तशती काव्य रूप में

  आगे...

सूक्तियाँ एवं सुभाषित

स्वामी विवेकानन्द

अत्यन्त सारगर्भित, उद्बोधक तथा स्कूर्तिदायक हैं एवं अन्यत्र न पाये जाने वाले अनेक मौलिक विचारों से परिपूर्ण होने के नाते ये 'सूक्तियाँ एवं सुभाषित, विवेकानन्द-साहित्य में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं।

  आगे...

सरल राजयोग

स्वामी विवेकानन्द

स्वामी विवेकानन्दजी के योग-साधन पर कुछ छोटे छोटे भाषण

  आगे...

पवहारी बाबा

स्वामी विवेकानन्द

यह कोई भी नहीं जानता था कि वे इतने लम्बे समय तक वहाँ क्या खाकर रहते हैं; इसीलिए लोग उन्हें 'पव-आहारी' (पवहारी) अर्थात् वायु-भक्षण करनेवाले बाबा कहने लगे।   आगे...

पौराणिक कथाएँ

स्वामी रामसुखदास

नई पीढ़ी को अपने संस्कार और संस्कृति से परिचित कराना ही इसका उद्देश्य है। उच्चतर जीवन-मूल्यों को समर्पित हैं ये पौराणिक कहानियाँ।

  आगे...

मरणोत्तर जीवन

स्वामी विवेकानन्द

ऐसा क्यों कहा जाता है कि आत्मा अमर है?

  आगे...

कर्म और उसका रहस्य

स्वामी विवेकानन्द

कर्मों की सफलता का रहस्य

  आगे...

ज्ञानयोग

स्वामी विवेकानन्द

स्वानीजी के ज्ञानयोग पर अमेरिका में दिये गये प्रवचन

  आगे...

धर्म रहस्य

स्वामी विवेकानन्द

समस्त जगत् का अखण्डत्व - यही श्रेष्ठतम धर्ममत है मैं अमुक हूँ - व्यक्तिविशेष - यह तो बहुत ही संकीर्ण भाव है, यथार्थ सच्चे 'अहम्' के लिए यह सत्य नहीं है।   आगे...

भक्तियोग

स्वामी विवेकानन्द

स्वामीजी के भक्तियोग पर व्याख्यान

  आगे...

भज गोविन्दम्

आदि शंकराचार्य

ब्रह्म साधना के साधकों के लिए प्रवेशिका

  आगे...

भगवान श्रीराम सत्य या कल्पना

श्रीरामकिंकर जी महाराज

साधकगण इस प्रश्न का उत्तर हमेशा खोजते रहते हैं

  आगे...

भगवान श्रीकृष्ण की वाणी

स्वामी ब्रह्मस्थानन्द

भगवान श्रीकृष्ण के वचन

  आगे...

भगवान महावीर की वाणी

स्वामी ब्रह्मस्थानन्द

भगवान महावीर के वचन

  आगे...

भगवान बुद्ध की वाणी

स्वामी ब्रह्मस्थानन्द

भगवान बुद्ध के वचन

  आगे...

असंभव क्रांति

ओशो

माथेराम में दिये गये प्रवचन

  आगे...

अमृत द्वार

ओशो

ओशो की प्रेरणात्मक कहानियाँ

  आगे...

 

  View All >> इस संग्रह में कुल 61 पुस्तकें हैं|