Newly added Hindi books - नई हिन्दी पुस्तकें
लोगों की राय

नई पुस्तकें

कवि प्रदीप

सुधीर निगम

राष्ट्रीय चेतना और देशभक्तिपरक गीतों के सर्वश्रेष्ठ रचयिता पं. प्रदीप की संक्षिप्त जीवनी- शब्द संख्या 12 हजार।   आगे...

हेरादोतस

सुधीर निगम

पढ़िए, पश्चिम के विलक्षण इतिहासकार की संक्षिप्त जीवन-गाथा- शब्द संख्या 8 हजार...   आगे...

अरस्तू

सुधीर निगम

सरल शब्दों में महान दार्शनिक की संक्षिप्त जीवनी- मात्र 12 हजार शब्दों में…   आगे...

बाज़ार हाज़िर है..

सर्वेश पाण्डेय

समीक्षात्मक लेख संग्रह   आगे...

वीरेन्द्र जैन के उपन्यासों में युग चेतना

उमा मेहता

पी एच डी शोध प्रबन्ध

  आगे...

आओ बच्चो सुनो कहानी

राजेश मेहरा

किताबों में तो बच्चो की सपनों की दुनिया होती है।

  आगे...

ऑथेलो (नाटक)

शेक्सपियर, रांगेय राघव

Othello का हिन्दी रूपान्तर   आगे...

निष्फल प्रेम (नाटक)

शेक्सपियर, रांगेय राघव

Love’s Labour Lost का हिन्दी रूपान्तर....   आगे...

मैकबेथ (नाटक)

शेक्सपियर, रांगेय राघव

Macbeth का हिन्दी रूपान्तर   आगे...

जूलियस सीज़र (नाटक)

शेक्सपियर, रांगेय राघव

Juilus Caesar का हिन्दी रूपान्तर   आगे...

भूलभुलैया (नाटक)

शेक्सपियर, रांगेय राघव

  आगे...

बारहवीं रात (नाटक)

शेक्सपियर, रांगेय राघव

Twelfth Night का हिन्दी रूपान्तर   आगे...

वर्तमान चुनौतियाँ और युवावर्ग

श्रीराम शर्मा आचार्य

मेरी समस्त भावी आशा उन युवकों में केंद्रित है, जो चरित्रवान हों, बुद्धिमान हों, लोकसेवा हेतु सर्वस्वत्यागी और आज्ञापालक हों, जो मेरे विचारों को क्रियान्वित करने के लिए और इस प्रकार अपने तथा देश के व्यापक कल्याण के हेतु अपने प्राणों का उत्सर्ग कर सकें।

  आगे...

उन्नति के तीन गुण-चार चरण

श्रीराम शर्मा आचार्य

समस्त कठिनाइयों का एक ही उद्गम है – मानवीय दुर्बुद्धि। जिस उपाय से दुर्बुद्धि को हटाकर सदबुद्धि स्थापित की जा सके, वही मानव कल्याण का, विश्वशांति का मार्ग हो सकता है।

  आगे...

शुक्रवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ला

इस व्रत को करने वाला कथा कहते व सुनते समय हाथ में गुड़ व भुने चने रखे, सुनने वाला सन्तोषी माता की जय - सन्तोषी माता की जय बोलता जाये

  आगे...

सोमवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ला

सोमवार के व्रत में शिवजी और पार्वती जी का पूजन करना चाहिये।

  आगे...

शनिवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ला

शनि की दशा को दूर करने के लिए यह व्रत किया जाता है। शनिस्तोत्र का पाठ भी विशेष लाभदायक सिद्ध होता है।

  आगे...

संतुलित जीवन के व्यावहारिक सूत्र

श्रीराम शर्मा आचार्य

मन को संतुलित रखकर प्रसन्नता भरा जीवन जीने के व्यावहारिक सूत्रों को इस पुस्तक में सँजोया गया है

  आगे...

रविवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ला

सभी मनोकामनाओं की पूर्ति हेतु रविवार का व्रत श्रेष्ठ है

  आगे...

रवि कहानी

अमिताभ चौधुरी

रवीन्द्रनाथ टैगोर की जीवनी

  आगे...

रश्मिरथी

रामधारी सिंह दिनकर

रश्मिरथी का अर्थ होता है वह व्यक्ति, जिसका रथ रश्मि अर्थात सूर्य की किरणों का हो। इस काव्य में रश्मिरथी नाम कर्ण का है क्योंकि उसका चरित्र सूर्य के समान प्रकाशमान है

  आगे...

प्रेमी का उपहार

रवीन्द्रनाथ टैगोर

रवीन्द्रनाथ ठाकुर के गद्य-गीतों के संग्रह ‘लवर्स गिफ्ट’ का सरस हिन्दी भावानुवाद

  आगे...

पंचतंत्र

विष्णु शर्मा

भारतीय साहित्य की नीति और लोक कथाओं का विश्व में एक विशिष्ट स्थान है। इन लोकनीति कथाओं के स्रोत हैं, संस्कृत साहित्य की अमर कृतियां - पंचतंत्र एवं हितोपदेश।

  आगे...

मुल्ला नसीरुद्दीन के कारनामे

विवेक सिंह

हास्य विनोद तथा मनोरंजन से भरपूर मुल्ला नसीरुद्दीन के रोचक कारनामे

  आगे...

मुल्ला नसीरुद्दीन के चुटकुले

विवेक सिंह

मुल्ला नसीरूद्दीन न केवल हँसोड़ था, बल्कि वह अच्छा हकीम भी था और सामान्य लोगों के सुख-दुःख में सदा भागीदार भी बनता था, इसलिए वह अत्यन्त लोकप्रिय था।

  आगे...

मूछोंवाली

मधुकान्त

‘मूंछोंवाली’ में वर्तमान से दो दशक पूर्व तथा दो दशक बाद के 40 वर्ष के कालखण्ड में महिलाओं में होने वाले परिवर्तन को प्रतिबिंबित करती हैं ये लघुकथाएं।

  आगे...

मीडिया हूं मैं

जयप्रकाश त्रिपाठी

कुछ तो होगा, कुछ तो होगा, अगर मैं बोलूंगा, न टूटे, न टूटे तिलिस्म सत्ता का, मेरे अंदर का एक कायर टूटेगा।

  आगे...

मनःस्थिति बदलें तो परिस्थिति बदले

श्रीराम शर्मा आचार्य

समय सदा एक जैसा नहीं रहता। वह बदलता एवं आगे बढ़ता जाता है, तो उसके अनुसार नए नियम-निर्धारण भी करने पड़ते हैं।

  आगे...

कुमुदिनी

नवल पाल प्रभाकर

ये बाल-कथाएँ जीव-जन्तुओं और बालकों के भविष्य को नजर में रखते हुए लिखी गई है

  आगे...

कामना और वासना की मर्यादा

श्रीराम शर्मा आचार्य

कामना एवं वासना को साधारणतया बुरे अर्थों में लिया जाता है और इन्हें त्याज्य माना जाता है। किंतु यह ध्यान रखने योग्य बात है कि इनका विकृत रूप ही त्याज्य है।

  आगे...

हारिए न हिम्मत

श्रीराम शर्मा आचार्य

प्रस्तुत पुस्तक में आचार्य श्रीराम शर्मा जी ने लोगों को जीवन की कठिन परिस्थितियों में किस प्रकार के आचार-विचार की आवश्यकता है, इसे एक माह की डायरी के रूप में बताया है।

  आगे...

चमत्कारिक वनस्पतियाँ

उमेश पाण्डे

प्रकृति में पाये जाने वाले सैकड़ों वृक्षों में से कुछ वृक्षों को, उनकी दिव्यताओं को, इस पुस्तक में समेटने का प्रयास है

  आगे...

अपराजेय निराला

आशीष पाण्डेय

निराला साहित्य के नव क्षितिज

  आगे...

विजय, विवेक और विभूति

रामकिंकर जी महाराज

विजय, विवेक और विभूति का तात्विक विवेचन

  आगे...

विद्युत उत्पन्न करने वाले जीव

परशुराम शुक्ल

विद्युत उत्पन्न करने विभिन्न प्रकार के जीवों का वर्णन

  आगे...

सुग्रीव और विभीषण

रामकिंकर जी महाराज

सुग्रीव और विभीषण के चरित्रों का तात्विक विवेचन

  आगे...

सत्य के प्रयोग

मोहनदास करमचंद गाँधी

महात्मा गाँधी की आत्मकथा

  आगे...

सरीसृप नागराज

परशुराम शुक्ल

साँपो के बारे में जानकारी देने वाली पुस्तक

  आगे...

प्रेममूर्ति भरत

रामकिंकर जी महाराज

भरत जी के प्रेम का तात्विक विवेचन

  आगे...

प्रसाद

रामकिंकर जी महाराज

प्रसाद का तात्विक विवेचन

  आगे...

प्रकाश उत्पन्न करने वाले जीव

परशुराम शुक्ल

प्रकाश उत्पन्न करने वाले विभिन्न जीवों का वर्णन

  आगे...

परशुराम संवाद

रामकिंकर जी महाराज

रामचरितमानस के लक्ष्मण-परशुराम संवाद का वर्णन

  आगे...

नीलकंठ : रंग-बिरंगा सुन्दर पक्षी

परशुराम शुक्ल

नीलकंठ : रंग-बिरंगा सुन्दर पक्षी

  आगे...

मिस्ट्री आफ खजुराहो

सुरेन्द्र कुमार सोनी

खजुराहो के मंदिरों के रहस्य

  आगे...

मानस और भागवत में पक्षी

रामकिंकर जी महाराज

रामचरितमानस और भागवत में पक्षियों के प्रसंग

  आगे...

माँ गाँव में है

दिविक रमेश

दिविक रमेश की चुनी हुई कविताएँ

  आगे...

लोभ, दान व दया

रामकिंकर जी महाराज

मानसिक गुण - कृपा पर महाराज जी के प्रवचन

  आगे...

क्रोध

रामकिंकर जी महाराज

मानसिक विकार - क्रोध पर महाराज जी के प्रवचन

  आगे...

कृपा

रामकिंकर जी महाराज

मानसिक गुण - कृपा पर महाराज जी के प्रवचन

  आगे...

काम

रामकिंकर जी महाराज

मानसिक विकार - काम पर महाराज जी के प्रवचन

  आगे...

जयशंकर प्रसाद की कहानियां

जयशंकर प्रसाद

जयशंकर प्रसाद की सम्पूर्ण कहानियाँ

  आगे...

हिन्दी साहित्य का दिग्दर्शन

मोहनदेव-धर्मपाल

हिन्दी साहित्य का दिग्दर्शन-वि0सं0 700 से 2000 तक

  आगे...

छन्दोऽलङ्कारमञ्जरी

रश्मि चतुर्वेदी

संस्कृत व्याकरण की प्रारम्भिक पुस्तक

  आगे...

प्रेमचन्द की कहानियाँ 3

प्रेमचंद

प्रेमचन्द की सदाबहार कहानियाँ का तीसरा भाग

  आगे...

प्रेमचन्द की कहानियाँ 2

प्रेमचंद

प्रेमचन्द की सदाबहार कहानियाँ का दूसरा भाग

  आगे...

प्रेमचन्द की कहानियाँ 1

प्रेमचंद

प्रेमचन्द की सदाबहार कहानियाँ का पहला भाग

  आगे...

 

  View All >> इस संग्रह में कुल 58 पुस्तकें हैं|