Brihaspatiwar Vrat Katha - Hindi book by - Gopal Shukla - बृहस्पतिवार व्रत कथा - गोपाल शुक्ल
लोगों की राय

धर्म एवं दर्शन >> बृहस्पतिवार व्रत कथा

बृहस्पतिवार व्रत कथा

गोपाल शुक्ल

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :28
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9684

Like this Hindi book 5 पाठकों को प्रिय

175 पाठक हैं

बृहस्पतिवार के हेतु रखे गये व्रतों की कथा

बृहस्पतिवार को व्रत के करने से भगवान बृहस्पति देव अति प्रसन्न होते हैं तथा धन और विद्या प्रदान करते हैं...

 

बृहस्पतिवार व्रत एवं कथा

व्रत की विधि


बृहस्पतिवार को भगवान बृहस्पति देव की पूजा होती है। दिन में एक समय ही भोजन करें। पीले वस्त्र धारण करके पीले पुष्पों, चने की दाल, गुड़ और पीले चन्दन  से बृहस्पति भगवान का पूजन करें। पूजन के पश्चात कथा सुननी चाहिये। इस व्रत के करने से भगवान बृहस्पति देव अति प्रसन्न होते हैं तथा धन और विद्या प्रदान करते है। स्त्रियों के लिए यह व्रत अति आवश्यक है। इस व्रत में केले के पेड़ का भी पूजन होता है। व्रत के पश्चात भोजन भी चने की दाल का होना चाहिये, नमक नहीं खाना चाहिये।  

* * *

आगे....

प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book